PG Ka Full Form In Hindi [April 2022]

PG Ka Full Form: पीजीका फुल फॉर्म क्या होता है, इसे हिंदी में क्या कहते है, PG kya hai, यह कितने सालों का होता है, इसमें कौन सी पढ़ाई होती है, अन्य बहुत सी जानकारी आपको इस पोस्ट में मिलने वाली है। PG का फुल फॉर्म और अन्य जरूरी जानकारी को प्राप्त करने के लिए इस पोस्ट के पूरा पढ़े।

Table of Contents

  1. PG Ka Full Form – PG Kya Hai
  2. पीजी कौन सी पढ़ाई होती है?
  3. पीजी कितने सालों का होता है?
  4. पीजी करने में कितना पैसा लगता है?
  5. ग्रेजुएट और पोस्ट ग्रेजुएट में क्या अंतर होता है?
  6. पीजी करने से क्या फ़ायदा है?
  7. PG Room Kya Hota Hai?
  8. अंतिम शब्द

PG Ka Full Form – PG Kya Hai

PG का फुल फॉर्म Post Graduate (पोस्ट ग्रेजुएट) होता है जिसे हम हिंदी में स्नातकोत्तर भी कहते है। इसे हम Master Degree (मास्टर डिग्री) भी कहते है, भारत या विश्व के किसी भी क्षेत्र में मास्टर डिग्री को PG ही कहा जाता है।

Full Form In Hindi x
Full Form In Hindi

यह डिग्री कोर्स २ सालों का होता है। पर ये जरूरी नहीं की सभी डिग्री कोर्स की समय सीमा २ साल ही हो। विश्व में हर जगह इनकी समय सीमा और कोर्स की संरचना अलग अलग होती है।

पीजी कौन सी पढ़ाई होती है?

इस कोर्स को आप UG यानि अंडर ग्रेजुएट करने के बाद ही कर सकते है। UG Courses जैसे बीसीए, बीए, बीएससी, बीकॉम, बीएड जैसे अन्य बहुत से कोर्स को करने के बाद ही आप PG कोर्स के लिए उपयुक्त बन सकते है।

आप PG कोर्स में उस विषय में मास्टर लेवल की पढ़ाई करते है जिस विषय को आपने अपने UG कोर्स में स्टडी किया था।

पीजी कितने सालों का होता है?

आम तौर पर PG कोर्स की अवधि २ साल ही होती है। इससे जुड़े सारे निर्णय लेने का अधिकार UGC के पास होता है। भारत में उच्च शिक्षा के प्रमुख के तौर पर UGC ही कार्य करता है।

अगर हम इन दो सालो को सेमेस्टर में बांटे तो आपको केवल ४ सेमेस्टर ही देने देंगे। हर साल आपको दो सेमेस्टर की परीक्षा देने होंगी जो की हर ६ महीने बाद होती है।

पीजी करने में कितना पैसा लगता है?

पीजी के अंदर आपके काफी सारे कोर्सेज आते है, ये सारे कोर्सेज के फीस भी काफी अलग अलग होते है। हर इंस्टिट्यूट में आपको हर कोर्सेज के अलग फीस देखने को मिल जायेंगे।

अगर आप पीजी करना चाहते है तो आपको उस इंस्टिट्यूट के ऑफिसियल वेबसाइट पर जाकर फीस स्ट्रक्चर के पैनल में जाकर अपने मनचाहे कोर्स की फीस जान सकते है। आमतौर पर सरकारी कॉलेज या इंस्टिट्यूट में आप काम फीस में भी पीजी की डिग्री ले सकते है।

ग्रेजुएट और पोस्ट ग्रेजुएट में क्या अंतर होता है?

ग्रेजुएशन :- इंटरमीडिएट परीक्षा को उत्तीर्ण करने के बाद आप ग्रेजुएशन डिग्री के लिए जा सकते है, इस डिग्री को हम बैचलर’स डिग्री भी कहते है। यह कोर्स ३ साल की अवधि का होता है जिसे आप डिप्लोमा के साथ २ साल में भी पूरी कर सकते है।

इसमें काफी ग्रेजुएशन कोर्सेज ४-५ साल के भी होते है। इसके फीस का प्रारूप आपको अपने इंस्टिट्यूट या कॉलेज की वेबसाइट पर मिल जायेगा। इस कोर्स को पूरा करने के बाद आप पोस्ट ग्रेजुएशन के लिए भी सक्षम बन जाते है।

पोस्ट ग्रेजुएट:- पोस्ट ग्रेजुएट उन विद्यार्थियों को कहा जाता है जिन्होंने अपनी अंडर ग्रेजुएट की डिग्री किसी कॉलेज या यूनिवर्सिटी से पूरी कर ली होती है और किसी अन्य एडवांस्ड लेवल की स्टडी के लिए जा रहे होते है। इसे हम मास्टर डिग्री भी कह सकते है।

इस कोर्स के लिए आपको सबसे पहले बैचलर’स डिग्री को पूरा करना पड़ता है।

पीजी करने से क्या फ़ायदा है?

आज के आधुनिक काल में शिक्षा का महत्व बढ़ता ही जा रहा है, ऐसे में ये सारे कोर्सेज काफी काम के होते है। सिर्फ 12th तक की शिक्षा न तो आपको एक अच्छी नौकरी दे पता है ना ही एक वेतन दे पता है।

UG और PG कोर्सेज को करके आप अपने कर्रिएर को एक अच्छी शुरू वात दे सकते है और साथ में एक सम्मान भरी जॉब भी पा सकते है।

  • आपके कर्रिएर को एक अच्छे स्तर पर ले जाने में मदद करता है।
  • अच्छी सैलरी वाली जॉब मिलने के मौके बढ़ जाते है।
  • खुद स्किल को डेवलप करने का वकत मिलता है।
  • सरकारी नौकरी के अवसर में बढ़ौतरी होती है।
  • काफी सारे कॉम्पिटिटिव एग्जाम के रस्ते खुल जाते है।

PG Room Kya Hota Hai?

PG का एक और महत्वपूर्ण फुल फॉर्म है जिसका नाम आपने बहुत बार सुना होगा इसका फुल फॉर्म “Paying Guest” भी होता है।

यह एक काफी हद तक घर किराये पर लेने के जैसा ही होता है। इसके एक व्यक्ति घर को किराये पर लेता है और मकानमालिक के द्वारा प्रदान किये गए खाना पाने रहने खाने जैसे सुविधाएं का लाभ उठता है। आमतौर पर विद्यार्थीओ को ही Paying Guest रखा जाता है। आप इसे एक तरीके का हॉस्टल भी कह सकते है।

क्या पीजी फ्लैट से सस्ता होता है?

काफी जगह फ्लैट्स का किराया बहुत महंगा हो चूका है खासकर बड़े शहरों में तो अकेले एक फ्लैट में रहना काफी महंगा भी पड़ जाता है। ऐसे में पेइंग गेस्ट बनकर रहना एक अच्छा विकल्प माना जाता है जिसमें की काफी कम कीमत में भी रह सकते है। स्टूडेंट्स के लिए paying guest बनकर रहना ही अच्छा विकल्प है।

NEET PG का फूल फॉर्म क्या होता है?

नीट पीजी फुल फॉर्म नेशनल एलिजिब्लिटी-कम एंट्रेंस टेस्ट पोस्ट ग्रेजुएट होता है।

अंतिम शब्द

PG Ka Full Form और PG कोर्स से जुडी सारी जानकारी मैंने आपको इस पोस्ट में देने के कोशिश की है, इसके अलावा मैंने इसमें आपको PG कोर्स करने के फायदे भी बताये है। अगर आपको हमारा यह पोस्ट अच्छा लगा तो हमारे पोस्ट को उन लोगो के साथ जरूर साँझा करे और इस पोस्ट को जयादा से जयादा लोगो तक पहुँचाये।

इसे भी पढ़े:-

Leave a Comment