CIF Ka Full Form In Hindi [Update 2022]

CIF Ka Full Form: क्या आप CIF के बारे में जानना चाहते है? आपके इस पोस्ट को खोलने के पीछे यही कारण होगा की आप इसके बारे में जानना चाहते है। आज इस पोस्ट में मैं आपको CIF के बारे में सारी जरूरी बातें बताने की कोशिश करूंगा और साथ ही आपकी सारी शंकाओं को दूर करने की भी कोशिश करना।

CIF क्या है, CIF Ka Full Form In Hindi क्या है, यह किस क्षेत्र से ताल्लुकात रखता है, आपके यह कैसे काम आ सकता है यह सारी जानकारी मैं आपको यहां पर देने की कोशिश करूंगा।

Full Form In Hindi x
Full Form In Hindi

आज कल हर एक भारतीय के पास खुद का बैंक अकाउंट होता ही है, इस विषय को समझने से पहले आपको में बता दू की यह Banking से ताल्लुकात रखता है इस कारण यह आप सभी के लिए जानना बहुत ही आवश्यक हो जाता है।

जब आप बैंक अकाउंट खुलवाते है तो आपको पासबुक दिया जाता है उसके शुरुवाती पेज पर आपके द्वारा बैंक को भेजी गई जानकारी, बैंक का IFSC Code, अकाउंट नंबर और उसी के नीचे CIF Number भी लिखा होता है। अभी हम इस पोस्ट में इसी के बारे में ही जानेंगे।

CIF Ka Full Form

CIF Ka Full Form “Customer Information File” होता है, हिंदी में इसे हम ग्राहक सूचना फ़ाइल भी कह सकते है। यह एक Online Computerized Storing Files होता है जहाँ पर काफी सारे बैंक के ग्राहकों के डेटाबेस और निजी जानकारी का समूह होता है। इसी के अंदर Purchase History और Transactions Records के जानकारी भी होते है।

अगर मैं आपको आम भाषा मे समझाने की कोशिश करूँ तो आप जितनी बार भी बैंक से संपर्क करते है, इसके अलावा आपके पूरे एकाउंट्स की सारी जानकारी इसी CIF में रहती है। इसे Paper Document (Hard Copy) में भी Store किया जाता है।

यहां पर आपको एक और बात जाननी चाहिए की CIF Number और बैंक अकाउंट का अलग अलग होता है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि इन्ही के तहत आपके सारे जानकारी Server में जमा किये जाते है। इस कारण इनका अलग अलग होना और भी जरूरी हो जाता है।

सभी बैंकों में यह CIF Number अलग अलग अंको में हो सकते है, जैसे HDFC Bank में CIF Number 8 अंको का होता है, SBI में 11 अंको का होता है, Axis Bank में 4 अंको का होता है और Central Bank में 10 अंको का होता है, इसी प्रकार सब सभी बैंकों में यह CIF Number अलग अलग अंको का होता है।

यह एकीकृत बैंकिंग अनुप्रयोग पैकेज का ही एक अवयव होता है, जिसे परिचालन गतिविधियों का समर्थन करने के रूप में हर Bank के अंदर रखा जाता है। इससे बैंक नियोक्ता को आपके बारे में ज्यादा देखना नही पड़ता बस अपने ग्राहक का नाम डालते ही सारी जानकारी आपके सामने होगी।

CIF, customer relationship management (CRM) का ही एक अंग होता है। CRM को हिंदी में हम ग्राहक संबंध प्रबंधन भी कहते है। CRM एक ऐसा व्यापार प्रक्रिया है जिसकी मदद से कोई भी व्यावसायिक कंपनी अपने ग्राहकों के साथ अपने संबंधों को सुधारने के लिए अपनाती है।

अन्य काफी वाणिज्यिक बैंक में यहग्राहकों को उत्पाद और सेवाएं के बारे में जानकारी देने में मदद करता है। इतना ही नही यह अन्य पहले पूछे गए सवालों को भी नए ग्राहकों के सामने रखता है ताकि उन्हें उस उत्पाद पर भरोषा करने में ज्यादा मुश्किल न हो। 

FAQ

CIF का व्यापार के क्षेत्र में क्या मतलब है?

इसे व्यापार के क्षेत्र में लागत, बीमा, और माल ढुलाई कहा जाता है। ये एक अंतर्राष्ट्रीय खरीदारी समझौता है जो की एक क्रेता और एक विक्रेता के बीच होता है जब वो अपने सामानों को एक देश से दूसरे देश को भेजते है।

मैं अपने CIF नंबर को कैसे प्राप्त कर सकता हूँ? 

ये आपको आपके बैंक के द्वारा भेजे गए e-statement में देखने को मिल जाएगा। e-statement प्राप्त करने के लिए आपको बस अपने बैंक को एक SMS भेजना है।

CIF और खाता संख्या क्या एक ही होते है?

नहीं, CIF और खाता संख्या दोनों काफी अलग होते है। आप अलग-अलग खाता संख्या बना सकते है लेकिन कभी भी उसका CIF नंबर एक जैसे नहीं हो सकता।

अंतिम पंक्तियॉ

CIF Ka Full Form और उसके बारे में सारी जरूरी जानकारी में मैंने आपको इस पोस्ट में देने की कोशिश की है अगर आपको मेरा यह पोस्ट अच्छा लगा तो तुरंत हमें कमेंट कर के बताए। अगर आपको इस विषय से जुड़ा कोई सवाल है तो वो भी हमें नीचे कँनेट करके बताये, मैं आपको जल्द से जल्द उत्तर देने की कोशिश करूंगा।

इसे भी पढ़े :-

Leave a Comment