CCI Full Form In Hindi | CCI क्या है?

CCI क्या है, इसका फुल फॉर्म क्या है, उद्देश्य, कार्य, सदस्यों की संरचना, और भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग के सामने आने वाली चुनौतियाँ सब कुछ के बारे में मैं आपको बहुत ही detail में बताने वाला हूं। इस आर्टिकल को पूरा पढ़ने के बाद आपको CCI के बारे में पूरी जानकारी मिल जाएगी।

Table of Contents

CCI Full Form In Hindi- cci ka full form

CCI का full form Competition Commission of India होता है इसे हिंदी में भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग कहा जाता है। इस कमीशन की स्थापना भारत सरकार ने 2003 में की थी। इस संस्था ने सही ढंग से काम करना 2009 में शुरू किया।

Full Form In Hindi x
Full Form In Hindi

CCI Kya Hai- सी.सी.ई क्या है?

CCI एक सांविधिक निकाय और सांविधिक मण्‍डल है। UPSC Civil Service परीक्षा देने वाले उम्मीदवारों को विभिन्न वैधानिक एवं संवैधानिक निकायों के कार्यों की काफी अच्छी जानकारी होनी चाहिए। यह IAS परीक्षा पास करने के लिए एक बहुत ही महत्वपूर्ण विषय माना जाता है। 

CCI के उद्देश्य क्या है?

इसका उद्देश्य सरकार और अंतर्राष्ट्रीय क्षेत्राधिकार के साथ जुड़कर भारतीय अर्थव्यवस्था में एक प्रतिस्पर्धी माहौल को स्थापित करना है। इसके चार प्रमुख उद्देश्य इस प्रकार है:- 

  •  प्रतिस्पर्धा को नुकसान पहुंचाने वाली चीज़ों को रोकने के लिए प्रयास करना। 
  •  व्यापार की स्वतंत्रता सुनिश्चित करने के लिए योजना बनाना। 
  • उपभोक्ताओं (customer) के हितों की रक्षा करना और उसके सुझावों पर ध्यान देना। 
  • बाजारों में प्रतिस्पर्धा के चाल चलन को पढ़ावा देना। 

इसे भी पढ़े:- COVA Punjab App क्या है

CCI को कैसे बनाया गया था?

CCI को तब बनाया गया था जब हमारे देश मे BJP की सरकार थी और हमारे देश के प्रधानमंत्री वाजपेयी जी थे। इसे प्रतियोगिता अधिनियम 2002 के प्रावधानों के तहत ही बनाया गया था। 

2007 में इस अधिनियम में संसोधन किया गया था। इस संसोधन के बाद ही CCI और प्रतिस्पर्धा अपीलीय न्यायाधिकरण (Competition Appellate Tribunal) की स्थापना हुई। 

प्रतिस्पर्धा अपीलीय न्यायाधिकरण (Competition Appellate Tribunal) को हमारे केंद्र सरकार के द्वारा ही बनाया गया था। इसका प्रमुख कार्य उन शिकायतों पर जांच करना है जो की CCI के फैसले या उनके द्वारा जारी किए गए किसी कानून पर किये जाते थे।

सन्न 2017 में हमारे सरकार ने प्रतिस्पर्धा अपीलीय न्यायाधिकरण (Competition Appellate Tribunal) की जगह  National Company Law Appellate Tribunal (NCLAT) को वो सारे अधिकार दिए जो की पहले Competition Appellate Tribunal के पास थे। आसान भाषा मे बोलू तो अब इन सारे चीज़ों की जिम्मेदारी NCLAT पे आ चुकी है। 

भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग के कार्य

इसका सबसे प्रमुख कार्य भारत की अर्थव्यवस्था को सुदृढ़ बनाना है। इसके लिए भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग पूरे और एक तरफा प्रतिस्पर्धा पर रोक लगाकर कर रही है। सी.सी.आई के कार्य इस प्रकार है:-

  • ये इस बात का ख्याल रखते है की भारतीय बाजार में उपभोक्ताओं (customer) के भले के लिए बनाए गए सुविधाओं का लाभ उन्हें मिल रहा है या नही। 
  • राष्ट्र की आर्थिक गतिविधियों में निष्पक्ष और स्वस्थ प्रतिस्पर्धा सुनिश्चित करके देश की आर्थिक हालत को सुधारना इनके ही कुछ महत्वपूर्ण कार्य है।
  • आयोग प्रतिस्पर्धा की हिमायत या रक्षा करना भी भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग के ही मूल कार्यो में से एक है। 
  • यह छोटे संगठनों के लिए अविश्वास लोकपाल (Antitrust Ombudsman) की तरह भी माना जाता है। 
  •  सी.सी.आई किसी भी विदेशी कंपनी (foreign trade company) की भी जांच कर सकती है जो भारतीय बाजार में प्रवेश करने का फैसला लेगी ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि वो company भारत के प्रतिस्पर्धा कानूनों, प्रतिस्पर्धा अधिनियम 2002 का पालन करती है है या नहीं। 
  • यह इस बात की भी जाँच करते है की क्या बाजार में केवल एक ही company ने एकाधिकार तो नहीं जमा रखा। इनका काम छोटे कंपनी और बड़े कंपनी के बीच मे तालमेल बैठाना भी होता है। 

CCI के अधिकारी

CCI में जो भी अधिकारी काम करते है उन्हें केंद्र सरकार चुनते है। अभी की हम बात करें तो इस कमेटी में एक चेयरपर्सन और दो सदस्य है। 

इस कॉमिशन में हमेशा से एक Chairperson होता है। इसके अलावा इसमें कम से कम 2 और ज्यादा से ज्यादा से ज्यादा 6 सदस्य ही हो सकते है। 

CCI अधिकारी कैसे बने?

आपको एक CCI अधिकारी बनने के लिए High Court जज, किसी भी फील्ड के बारे में स्पेशल नॉलेज, या उन्हें किसी भी प्रोफेशनल फील्ड में 15 साल से अधिक का अनुभव होना आवश्यक होता है। ये प्रोफेशनल फील्ड अंतर्राष्ट्रीय व्यापार, अर्थशास्त्र, व्यवसाय, वाणिज्य, कानून, वित्त, लेखा, प्रबंधन, उद्योग, सार्वजनिक मामले अन्य भी हो सकते है। 

FAQ

भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग की स्थापना कब हुई?

भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग की स्थापना 14 अक्टूबर 2003 में हुई थी। 

सी.सी.ई का फुल फॉर्म क्या है?

सी.सी.ई का फुल फॉर्म Competition Commission of India होता है इसे भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग कहा जाता है। 

अंतिम शब्द

सी.सी.ई से जुड़ी सारी जानकारी मैंने आपको इस पोस्ट में देने की कोशिश की है अगर आपको मेरा ये पोस्ट अच्छा लगा है तो नीचे comment करके बताये। अगर आपका कोई और सवाल है तो वो भी हमसे नीचे comment करके आप पूछ सकते है। 

Leave a Comment